भारतीय टेलीविज़न और सिनेमा के प्रमुख टाइपकास्ट कलाकार

815

भारतीय टेलीविज़न और सिनेमा के प्रमुख टाइपकास्ट कलाकार

फिल्म एवं टेलीविज़न इंडस्ट्री में अपना कैरियर बनाने आये हर कलाकार का सपना होता है कि वो यहाँ अपनी एक पहचान बनाये और कलाकार के तौर पर लोगों के दिल और दिमाग में अपनी छाप छोड़े. पर क्या हो जब ये पहचान किसी कलाकार के लिए आगे चलकर मुसीबत बन जाये!!

जी हां टेलीविज़न और फिल्मों के कई ऐसे अभिनेता और अभिनेत्री हैं, जिन्हें अपने किरदार के रूप में इतनी कामयाबी मिली कि लोग उन्हें आज तक उनके असल नाम के बजाय उनके किरदारों के नाम से जानते हैं. पर उनकी यह कामयाबी उनके भविष्य के लिए मुसीबत बन गयी. उनका किरदार लोगों के जहन में इस कदर बस गया कि लोग उन्हें किसी और रूप में स्वीकार ही नहीं कर पाए. जिस कारण वे दूसरे किरदारों के रूप में अपनी पहचान बनाने में असफल रहे.

अमजद खान (गब्बरसिंह)

amjad-khan
source:newsmobile

बॉलीवुड की सुपरहिट एवं सदाबहार फिल्म ‘शोले’ में गब्बरसिंह नाम के विलेन का रोल निभाकर ‘अमजद खान’ ने लोकप्रियता की एक नयी मिशाल कायम की. फिल्म में उनके द्वारा बोला गया एक-एक डायलॉग लोगों की जुबान पर चढ़ गया. गब्बर नाम विलेन का पर्यायवाची बन गया. इस किरदार की लोकप्रियता का आलम यह रहा कि अमजद खान को लोग गब्बरसिंह के रूप में जानने लगे. इसके बाद भी ‘अमजद खान’ ने कई फ़िल्में की पर ऐसी कामयाबी और पहचान उन्हें दोबारा हासिल नहीं हुई.

रूपा गांगुली (द्रोपदी)

draupadi_roopa-ganguli
source:indiatimes

टेलीविज़न की नयी पहचान बने दूरदर्शन की सुपरहिट सीरीज ‘महाभारत’ में द्रोपदी का दमदार अभिनय निभाने वाली ‘रूपा गांगुली’ इस किरदार के रूप में काफी लोकप्रिय रहीं पर इस सीरियल के समाप्त होने के बाद भी उनके किरदार का असर ऐसा रहा कि उन्हें अन्य रोल ऑफर ही नहीं हुए. इस इंडस्ट्री में अपना कैरियर ना बनते देख उन्होंने दक्षिण की ओर रूख किया.

नितीश भारद्वाज (श्री कृष्ण)

krishna_nitish-bhardwaj
source:indiatimes

सीरियल ‘महाभारत’ में श्री कृष्ण का लोकप्रिय किरदार निभाकर ‘नितीश भारद्वाज’ घर-घर में कृष्ण के रूप में पूजे जाने लगे. लोगों पर उनके कृष्ण के रूप का इतना असर हुआ कि वे उन्हें किसी और रूप में स्वीकार ही नहीं कर पाये. इस प्रकार इंडस्ट्री में नितीश भारद्वाज केवल श्री कृष्ण बनकर रह गये.

अरुण गोविल (राम)

arun-govil
source:india-forums

नितीश कुमार की तरह ही ‘अरुण गोविल’ दूरदर्शन पर सुपरहिट सीरीज ‘रामायण’ में भगवान राम के किरदार के रूप में इतने लोकप्रिय हुए कि लोग उनमें राम को देखने लगे. कहा जाता है की उन दिनों जब अरुण गोविल पब्लिक प्लेस में जाते तो लोग उनके पैर छूने लगते. इस किरदार की लोकप्रियता के कारण वो लोगों के दिल में राम के रूप में बस गये, जिसकी जगह फिर उनके द्वारा निभाया कोई अन्य किरदार कभी नही ले पाया.

पुनीत इस्सर (दुर्योधन)

puneet-issar-duryodhan
source:itimes

सीरियल ‘महाभारत’ में दुर्योधन के किरदार के रूप में ‘पुनीत इस्सर’ ने इतनी लोकप्रियता बटोरी कि यह नाम लोगों की जुबान पर चढ़ गया. इसके बाद या इससे पहले का कोई अन्य किरदार पुनीत इस्सर की इस छवि को टक्कर नहीं दे पाया. पुनीत इस्सर को पिछली बार ‘बिग बॉस’ के आठवें सीजन में देखा गया.

गजेन्द्र चौहान (युधिष्ठिर)

yudhishter_gajendra-chauhan
source:indiatimes

सीरियल ‘महाभारत’ में ही सत्य व कर्तव्यनिष्ठ युधिष्ठिर के किरदार के रूप में ‘गजेन्द्र चौहान’ लोगों के बीच युधिष्ठिर के रूप में पहचाने जाने लगे. इससे पहले या इसके बाद किसी अन्य रूप में अपनी छाप छोड़ने में वो असफल रहे. हाल ही में FTII के चेयरमैन बनाये जाने के विवाद को लेकर गजेन्द्र चौहान काफी चर्चाओं में रहे.

आलोक नाथ (बाबूजी)

alok-nath
source:tellychakkar

‘आलोक नाथ’ का नाम आते ही दिमाग में एक संस्कारी, सीधे-सरल, प्यार से भरे हुए बाबूजी की छवि उभर आती है. ‘आलोक नाथ’ इस किरदार के रूप में इतने लोकप्रिय हैं की उन्हें लगभग हर फिल्म और सीरियल में बाबूजी का ही किरदार मिलता है. पिछले साल सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर बाबूजी पर बने जोक्स काफी लोकप्रिय रहे और इन्होंने लोगों को बहुत हंसाया.

क्या आपको यह जानकारी रोचक लगी? अपने विचार नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में शेयर करें.

Comments

comments