कहीं आपका पार्टनर ओवर पोजेसिव तो नहीं!!!

    205

    कहीं आपका पार्टनर ओवर पोजेसिव तो नहीं!!!

    प्यार में protective होने और possessive होने के बीच एक बहुत बारीक लाइन होती है. थोड़ा-बहुत पोजेसिव होने में कुछ गलत भी नहीं है. इतना तो प्यार में आम बात है लेकिन जब ये possessive nature आपके लिए सजा बन जाए तो रिलेशनशिप बोझ सी लगने लगती है और ये आपके रिश्ते के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है. कई बार ऐसे रिलेशनशिप में होने के बावजूद भी हम इस बात का एहसास नही कर पाते कि हम एक over possessive रिलेशनशिप में हैं.

    कहीं आप भी इस बात से बेखबर तो नहीं? तो आइये कुछ कॉमन sign के जरिये जानते हैं कि कहीं आपका पार्टनर भी over possessive तो नहीं:

    वो चाहता/चाहती है कि आप हमेशा उसकी इच्छा के अनुसार चलो:

    possessive-gf
    source:boldsky

    रिलेशनशिप में एक दूसरे कि भावनाओं की कद्र करना और थोड़ा-बहुत एडजस्ट करना तो जरुरी है. लेकिन जब आपका पार्टनर आप पर अपनी सारी इच्छाएं थोंप दें और चाहे कि आप उसके अनुसार काम करो, जो उसे पसंद हो बस वही करो तो ये बहुत बड़ा sign है कि आपका पार्टनर over possessive है.

    आपकी हर एक्टिविटी पर आपके पार्टनर की नज़र रहती है:

    possessive-bf
    source:africaonline

    over possessive पार्टनर अपने प्यार पर भरोसा कर ही नहीं पाते. उन्हें आदत होती है कि वो आपकी हर एक्टिविटी पर नज़र रखें. आपके फ्रेंड्स कौन-कौन हैं? सोशल मीडिया में आपकी लिस्ट में कितने मेल/फीमेल फ्रेंड्स एड हैं? आप किस-किस से चैट कर रहे हैं. आप किससे मिलने जा रहे हैं? उन्हें हर तरह की जानकारी चाहिए.

    वो आपके पर्सनल स्पेस की इज्जत नहीं करते:

    Over-possessiveness
    source:scooppick

    हम रिलेशनशिप में चाहे कितनी ही गहराई से जुड़े हों, पर अपने पर्सनल स्पेस की जरूरत हर किसी को होती है. लेकिन अगर आपके पार्टनर का स्वभाव over possessive है तो वो आपके पर्सनल स्पेस की परवाह नही करते. आपका सेल फ़ोन चेक करना, आपके फ्रेंड्स की डिटेल मांगना, आपसे आपके फ़ोन या अकाउंट का पासवर्ड लेना इत्यादि आपके पर्सनल स्पेस में हमला है.

    वो आपके मेल/फीमेल फ्रेंड्स को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर पाते:

    jealous-man
    source:yurtopic

    आपका पार्टनर आप पर अपना एकाधिकार समझने लगता है और वो आपके मेल/फीमेल फ्रेंड्स को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर पाते. उन्हें बिल्कुल नहीं पसंद कि आप उनके अलावा किसी और को जरा भी अटेंशन दो.

    आप कहाँ, क्यों और किसके साथ जा रहे हो? इस पर भी उसका कंट्रोल है:

    thumb_shutterstock-controlling-relationship
    source:steadyhealth

    आपको अपने हर प्रोग्राम की डिटेल अपने पार्टनर को देनी पड़ती है कि आप कहाँ जा रहे हो? क्या काम है? किसके साथ हो? और कब तक वापस आ जाओगे? और इन सब में भी वो अपना कंट्रोल कर लेता है/लेती है कि आपको वाकई में जाना है या नहीं! और कई बार अपने पार्टनर के कहने पर आपको अपने प्रोग्राम में चेंज या फिर कैंसल भी करना पड़ा हो तो समझ लो कि ये रिलेशनशिप एकतरफा हो रहा है.

    आपको ये आर्टिकल कैसा लगा? इस लेख से जुड़े अपने विचार आप नीचे दिए कमेंट बॉक्स में शेयर कर सकते हैं.

    Comments

    comments