61 साल बाद फिर से खुला ‘हवा में झूलने वाला पुल’

304

61 साल बाद फिर से खुला ‘हवा में झूलने वाला पुल’

61 साल तक बंद रहने के बाद दर्शनीय गॉबिन्स क्लिफ़ पाथ को फिर पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है. गॉबिन्स क्लिफ़ पाथ चट्टानों के साथ-साथ और समुद्र के किनारे 1902 में बनाया गया रास्ता है जिसे चट्टानों को छेनी-हथोड़े से काटकर, चट्टानों के बीच कास्ट-आयरन पुल बनाकर पूरा किया गया था. यहां से आप साफ़ दिन में स्कॉटलैंड तक देख सकते हैं. दशकों तक बंद पड़े इस रास्ते को खोलने के लिए करीब 75 लाख पाउंड की लागत से पूरे रास्ते की मरम्मत की गई है.

source- mclh.co.uk
source- mclh.co.uk

गॉबिन्स क्लिफ़ पाथ ब्रितानी राजा एडवर्ड सप्तम के दौर की इंजीनियरिंग का बेहतरीन उदाहरण था. नॉर्दर्न काउंटीज रेलवे कंपनी ने ये रास्ता कंक्रीट और कास्ट-आयरन से बने पुलों से बनाया था.

1930 के दशक की आर्थिक मंदी और ऑटोमोबाइल युग में इसके रख रखाव का खर्च काफ़ी ज़्यादा हो गया. द्वीतीय विश्व युद्ध के दौरान इसे बंद कर दिया गया. फिर 1951 में थोड़े समय के लिए इसे खोला गया और 1954 में इस रास्ते को पूरी तरह से बंद कर दिया गया.

source- wikimedia.org
source- wikimedia.org

पहले गॉबिन्स क्लिफ़ पाथ को समुद्र से रस्सियों और पुली के ज़रिए उठाया गया होगा और फ़िक्स किया गया होगा, लेकिन अब इसे 60 मीटर की ऊँचाई से क्रेन के इस्तेमाल से एक निर्धारित ऊंचाई पर फिक्स किया गया लेकिन तूफ़ानी हवाओं के कारण इसमें काफ़ी देरी लगी.

करीब एक मील लंबे समुद्रतटीय रास्ते पर 20 मीटर लंबा गोलाकार ट्यूब जैसा पुल इस पूरे रास्ते का सबसे अदभुत पहलू है. 1902 में भी इसका आकार इसी तरह का था लेकिन इसके साथ सुरक्षा के कोई उपाय नहीं किए गए थे. केवल दोनों तरफ़ तीन लंबी बार लगा दी गई थीं. उस समय चट्टानों के बीच झूलते हुए इस पुल से गुज़रने के दौरान कई बार नीचे बहता समुद्री पानी बस 10 मीटर की दूरी पर ही होता था.

source- irishtimes.com
source- irishtimes.com

शुरुआत में बना पुल देखरेख के अभाव में समुद्री तूफ़ानों की मार झेलता हुआ बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. लेकिन नया ट्यूबुलर पुल नई तकनीक से करीब तीन लाख पाउंड की लागत में बनाया गया है. इसको बनाने में अब कहीं ज़्यादा टिकाऊ स्टेनलेस स्टील का इस्तेमाल किया गया है. अगर समुद्री तूफ़ान हर दिन भी इसे अपनी चपेट में ले, तो भी 50 साल तक इसके दुरुस्त रहने का दावा किया जा रहा है.

source- ice.org.uk
source- ice.org.uk

इस रास्ते में आधा मील दूर जाने पर ये चट्टानों में गायब होता नज़र आता है. लेकिन इसके आगे है 21 मीटर लंबी प्राकृतिक सुरंग जो पर्यटकों को समुद्र के नीचे कहीं ले जाती है.

वैसे ये पुल कई नामों से मशहूर रहा है. झूलता हुआ पुल, लटकता हुआ पुल, हवा के झोंके के साथ हिलने वाला पुल. बहरहाल, इंसानों ने इस इलाके में पाए जाने वाले समुद्री पक्षियों एवं जीव को 60 साल से नहीं देखा है. इन्हें देखने की भी पयर्टकों को ख़ासी उत्सुकता रहती है.

इस लेख से जुड़े अपने विचार नीचे कमेंट बॉक्स में शेयर करें.

Comments

comments